Join For Latest Government Job & Latest News

WhatsApp Group Join Now
Telegram Group Join Now
Matric Hindi Machhali Subjective Questions 2024 [ हिन्दी ] मछली सब्जेक्टिव क्वेश्चन 2024
Class 10th Hindi Subjective Question Class 10th Subjective Question

Matric Hindi Machhali Subjective Questions 2024 [ हिन्दी ] मछली सब्जेक्टिव क्वेश्चन 2024

हिन्दी ( Hindi ) मछली लघु उत्तरीय सब्जेक्टिव क्वेश्चन 2024:- हैलो दोस्तो अगर आप मैट्रिक परीक्षा 2024 के लिए तैयारी कर रहे है तो यहां पर क्लास 10th Hindi हिन्दी का महत्वपूर्ण सब्जेक्टिव क्वेश्चन आंसर ( Class 10th Hindi Short Type vvi Subjective Question Answer ) दिया गया है यहां पर क्लास 10th हिन्दी 2024 का मॉडल पेपर ( Class 10th Hindi Model Paper ) तथा ऑनलाइन टेस्ट ( Online Test ) भी दिया गया है और PDF डाउनलोड कर के भी पढ़ सकते हैं । और आप मैट्रिक के फाइनल एग्जाम में अच्छा मार्क्स ला सकते हैं और अपने भाविष्य को उज्वल बना सकते है धन्यवाद –

Join us on Telegram

Matric Hindi Machhali Subjective Questions 2024 [ हिन्दी ] मछली सब्जेक्टिव क्वेश्चन 2024

 

प्रश्न 1. संतू मछली लेकर क्यों भागा ?

उत्तर ⇒ संतू मछली लेकर कुएँ में डालने के लिए भागा ताकि मछली जिन्दा होकर बड़ी हो जाए ।

प्रश्न 2. मछली और दीदी में क्या समानता दिखलाई पड़ी ? स्पष्ट करें ।

उत्तर ⇒ आदमी के चंगुल में आकर मछली कटने को विवश थी। पानी के अभाव में अंगोछा में लिपटी मछली लहरा रही थी। दीदी कमरा में करवट लिए, पहनी हुई साड़ी को सर तक ओढ़े, सिसक-सिसक कर रो रही थी । हिचकी लेते ही दीदी का पूरा शरीर सिहर उठता था ।
दीदी का सिहरना एवं मछली का लहराना दोनों में समानता दिखलाई पड़ी ।

प्रश्न 3. मछलियों को लेकर बच्चों की अभिलाषा क्या थी ?

उत्तर ⇒ मछलियों को लेकर बच्चों के मन में अभिलाषा थी कि एक मछली पिताजी से माँगकर उसे कुएँ में डालकर बहुत बड़ी करेंगे ।

प्रश्न 4. मछली को छूते हुए संतू क्यों हिचक रहा था ?

उत्तर ⇒ संतू मछलियों को छूते हुए हिचक रहा था, क्योंकि उसे डर था कि मछली काट लेगी ।

प्रश्न 5. मछलियाँ लिए घर आने के बाद बच्चों ने क्या किया ?

उत्तर ⇒ मछलियाँ घर लाने के बाद बच्चों ने नहानघर में भरी हुई बाल्टी को आधी करके उसमें मछलियों को रख दिया ।

प्रश्न 6. दीदी कहाँ थी और क्या कर रही थी ?

उत्तर ⇒ दीदी घर के एक कमरे में थी । वह लेटी हुई थी और सिसक-सिसककर रो रही थी । वह बार-बार हिचकी ले रही थी जिससे उसका शरीर सिहर उठता था ।

प्रश्न 7. झोले में मछलियाँ लेकर बच्चे दौड़ते हुए पतली गली में क्यों घुस गए ?

उत्तर ⇒ झोले में मछलियाँ लेकर बच्चे दौड़ते हुए पतली गली में घुस गये, क्योंकि इस गली से घर नजदीक पड़ता था । दूसरे रास्तों में बहुत भीड़ थी ।

प्रश्न 8. संतू क्यों उदास हो गया ?

उत्तर ⇒ संतू यह जानकर उदास हो गया था कि मछली कुछ देर बाद कट जायेगी । वह मछली को जीवित पालना चाहता था। मछली को बिछुड़ते हुए जानकर वह दुःखी हो गया ।

प्रश्न 9. अरे-अरे कहता हुआ भग्गू किसके पीछे भागा और क्यों ?

उत्तर ⇒ अरे-अरे कहता हुआ भग्गू संतू के पीछे भागा क्योंकि संतू एक मछली को लेकर भाग रहा था। भग्गू को डर था कि संतू मछली को कुआँ में डाल देगा जिसके चलते उसे डाँट पड़ेगी। संतू से मछली लेने के लिए वह उसके पीछे भागा ।

प्रश्न 10. मछली के बारे में दीदी ने क्या जानकारी दी थी ? बच्चों ने उसकी परख कैसे की ?

उत्तर ⇒ मछली के बारे में दीदी ने जानकारी दी थी कि मरी हुई मछली की आँख में अपनी परछाईं नहीं दिखती है। बच्चों ने उसकी परख एक मृत मछली की आँख में झाँककर की।

प्रश्न 11. घर में मछली कौन खाता था और वह कैसे बनायी जाती थी ?

उत्तर ⇒ घर में मछली केवल पिताजी खाते थे। मछली को उस घर का नौकर काटता था । उसे काटने के लिए अलग पाटा था। पहले मछली को पत्थर पर पटककर मार दिया जाता था, फिर राख से मलने के बाद पाटा पर रखकर चाकू से काटा जाता था। मछली बनाने का कार्य नहानघर में होता था ।

प्रश्न 12. पिताजी किससे नाराज थे और क्यों ?

उत्तर ⇒ पिताजी नरेन से नाराज थे। क्योंकि, बच्चे मछलियों के चलते स्वयं परेशान रहे साथ ही भग्गू को भी परेशान किया । बच्चे मछली को पालना चाहते थे, कोमल बालमन मछली को कटते देख विह्वल हो उठा और बच्चा एक मछली को लेकर भाग गया। पीछे-पीछे भग्गू को भागना पड़ा।
छीना-झपटी की स्थिति आई। पिताजी इन हरकतों के कारण नाराज हुए ।

हिन्दी ( Hindi ) मछली दीर्घ उत्तरीय सब्जेक्टिव क्वेश्चन 2024:-

 

प्रश्न 1. दीदी का चरित्र चित्रण करें ।

उत्तर ⇒ प्रस्तुत कहानी में मध्यम वर्गीय परिवार की यथार्थ झलक है। दीदी घर की चहारदीवारी के बीच कंठपुतली बन कर रहने वाली एक बाला है। लिंग-भेद परिवार में निहित है। पिता की ओर से स्वतंत्रता नहीं है जिसके चलते घर में ही रहकर समय व्यतीत करती है । वह ममता की मूर्ति है ।
अपने भाइयों के प्रति अटूट श्रद्धा रखती है । उन्हें प्रत्येक जीवों में अपनी परछाईं देखने की शिक्षा देती है। मछली को विवश होकर कट जाना उसके लिए पीड़ादायक है । वह समाज की रूढ़िवादिता के बीच मूक रहकर लाचार, बेबस एवं निर्ममतापूर्वक प्रहार को सहन करने वाले की आत्मा की पुकार को अनुभव करके सिसकियाँ एवं आहभर कर रह जाने वाली कन्या है ।

प्रश्न 2. कहानी के शीर्षक की सार्थकता स्पष्ट करें ।

उत्तर ⇒‘मछली’ शीर्षक कहानी में एक किशोर की स्मृतियाँ, दृष्टिकोण और समस्याएँ हैं । मछलियों के माध्यम से मूक रहकर प्राणांत को स्वीकार लेना ही लाचार, शोषित, पीड़ित जनों की नियति है, बताया गया है। जीवन क्षणभंगुर है । कल्पनाएँ क्षणिक हैं एवं स्वप्न कभी भी बिखर सकते हैं ।
बालसुलभ मनोभाव मछलियों के इर्द-गिर्द घूमते हैं। पूरी कहानी मछली पर ही आधारित है। मछली की दशा का जीवन्त चित्रण है । अंततः, दीदी की तुलना भी बालक मछली से करता है । इस कहानी का ‘मछली’ शीर्षक पूर्ण रूपेण सार्थक कहा जा सकता है ।

प्रश्न 3. संतू के विरोध का क्या अभिप्राय है ?

उत्तर ⇒संतू मानवीय गुणों को उजागर करता है। मानव में सेवा, परमार्थ, ममता जैसे गुण विद्यमान होते हैं । परन्तु आज मानव अपने आदर्श को भूलकर, इन गुणों को त्यागकर, स्वार्थ में अंधा होकर विवश और लाचार की मदद में नहीं बल्कि शोषण में लिप्त है । मूक मछलियों को निर्ममतापूर्वक काटते देख संतू उसकी रक्षा को आतुर हो उठता है और उसे बचाने हेतु झपट कर भग्गू के सामने से मछली को लेकर भाग जाता है । इस विरोध का मतलब है कि आज निःस्वार्थ भाव से बेबस, लाचार, शोषित, पीड़ित जनों की रक्षा, उत्थान एवं कल्याण के लिए अग्रसर होना परमावश्यक है ।ममत्व में धैर्य टूट जाता है । सभी प्राणी में अपनी परछाईं दिखनी चाहिए ।

प्रश्न 4. मछली कहानी का सारांश प्रस्तुत करें । अथवा, अपने पाठ्य पुस्तक की उस कहानी का सारांश लिखें जिसमें शहर के निम्न मध्वर्गीय परिवार का घरेलू वातावरण, जीवन – यथार्थ और लिंग भेद की समस्या का मार्मिक स्पर्श है ।

उत्तर ⇒ बूंदा-बूंदी शुरू होते ही दोनों भाई दौड़ते हुए गली में घुस गये – इसलिए कि मछलियाँ पानी बिना झोले में ही मर न जाएँ। भाइयों की इच्छा थी कि एक मछली पिताजी से माँग कर, कुएँ में डाल, बड़ा करेंगे।
संतू ठंड से काँपने लगा था। दोनों ने नहानघर में घुस अपनी-अपनी कमीजें निचोड़ी।संतू मछली छूने से डर रहा था। नरेन मछली की आँखों में अपनी छाया देखना चाहता था । दीदी ने कहा था कि मरी मछली की आँख में अपनी परछाई नहीं दिखती। संतू से न बना तो नरेन ने खुद देखा किन्तु पता ही नहीं चला किअपनी परछाई थी या मछली की आँखों का रंग।
पता चला कि दीदी सो रही है। माँ उधर मसाला पीस रही थी । भाइयों का मन छोटा हो गया- आज ही बनेंगी। इतने में भग्गू आया और मछलियाँ ले गया। मछली पालने का उत्साह ठंडा पड़ गया। दोनों कमरे में गए – दीदी लेटी हुई थी । गीले कपड़ों में देख नाराज हुई।संत को अच्छे-अच्छे कपड़े पहनाये, नरेन को भी धुले कपड़े पहनने को कहा। दीदी ने ही संतू के बाल पोंछे झाड़े । भग्गू मछलियाँ काटने में लगा कि संतू एक मछली लेकर भागा। भग्गू दौड़ा। नरेन कमरे में गया- दीदी सिसक-सिसक कर रो रही थी, शरीर सिहर रहा था। उधर भग्गू संतू से मछली छीनने में लगा था ओर इधर घर में पिताजी जोर-जोर से चिल्ला रहे थे। दीदी सिसक रही थी। शायद पिताजी ने दीदी को मारा था। पिताजी नरेन को घर में आने से रोकने को भग्गू से कह रहे थे। संतू सहमा खड़ा था। दीदी के सँवरे बाल बिखर गए थे।नरेन नहान घर में गया । बाल्टी उलट दी। उसे लगा कि पूरे घर में मछली की गंध आ रही है।

प्रश्न 5. “नहानघर की नाली क्षण भर के लिए पूरी भर गई, फिर बिल्कुल खाली हो गयी ।

उत्तर ⇒प्रस्तुत पंक्तियाँ विनोद कुमार शुक्ल रचित कहानी ‘मछली’ से उद्धृत है। कहानी एक छोटे शहर के निम्न मध्यवर्गीय परिवार के भीतर के वातावरण, जीवन यथार्थ और संबंधों को आलोकित करती हुए लिंग भेद की समस्या को भी स्पर्श करती है।
नहानघर से मछलियों की गंध आ रही है । बाल्टी खंगाली गयी। फिर बाल्टी को उलट दिया तो नहानघर की नाली क्षणभर को पूरी भर गई, फिर बिल्कुल खाली हो गई। पूरे घर में मछलियों की जैसे गंध आ रही थीं। बच्चे मछली पालना चाहते थे। लेकिन ऐसा नहीं हुआ। दीदी सिसकने लगी।
बच्चे निराश होने लगे। बच्चों के सपने बिखर गये। घर महकने लगा।

प्रश्न 6. ‘अगर बाल्टी भरी होती तो मछली उछल कर नीचे आ जाती की सप्रसंग व्याख्या कीजिए ।

उत्तर ⇒प्रस्तुत पंक्ति विनोद कुमार शुक्ल के ‘मछली’ शीर्ष की है। प्रस्तुत पंक्ति में बच्चों का मछली की रक्षा के लिए सजगता परिलक्षित होता है । बच्चे की हार्दिक इच्छा थी कि हम मछली को मरने नहीं देंगे बल्कि जीवित अवस्था में रहने के लिए कुआँ में डाल देंगे ।इसके लिए पिताजी से एक मछली माँगने का इंतजार कर रहे थे। जबतक पिताजी नहीं आ जाते तब तक कुआँ में डालना नहीं था । इसलिए उसे बाल्टी में रखना अनिवार्य था । उन्हें डर था कि बाल्टी भरी होगी तो मछलियाँ बाहर जमीन पर कूद जायेंगी ।इसलिए भरी बाल्टी आधा कर के उसमें मछलियों को रखा गया ।

प्रश्न 7. ‘ और पास से देख परछाईं ‘ दिखती है की सप्रसंग व्याख्या कीजिए ।

उत्तर ⇒ प्रस्तुत पंक्ति विनोद कुमार शुक्ल की रचना ‘मछली’ की है। बच्चे मछलियों को परखना चाहते थे कि इनमें जीवित कौन है और मृत कौन । दीदी ने बताया था कि मरी हुई मछली की आँखों में मनुष्य की परछाई दिखाई नहीं देती है ।जब संतू को मछली की आँखों में देखने के लिए कहा गया तब वह निकट जाने से डर रहा था । वह दूर से देखने का प्रयास कर रहा था । इसलिए दूसरा बच्चा उसे निकट से देखने को प्रेरित करता है ताकि परछाई दिखाई पड़े और मछली जीवित है ऐसा पता चल जाय। मछली में अपनी छाया देखने का तात्पर्य है अपने समान मछली को भी समझना । उससे आत्मीय स्नेह स्थापित करना ही निकट से देखना कहा गया है ।

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *