Join For Latest Government Job & Latest News

WhatsApp Group Join Now
Telegram Group Join Now
Class 10th Hindi Grammar Varn Vichar Subjective and Objective Questions [ हिंदी व्याकरण ] वर्ण विचार सब्जेक्टिव और ऑब्जेक्टिव क्वेश्चन
Class 10th Hindi Subjective Question Class 10th Subjective Question

Matric Hindi Dahi Vaali Mangamma Subjective Questions 2024 [ हिन्दी ] दही वाली मंगम्मा सब्जेक्टिव क्वेश्चन 2024

हिन्दी ( Hindi ) दही वाली मंगम्मा लघु उत्तरीय और दीर्घ उत्तरीय सब्जेक्टिव क्वेश्चन 2024:- हैलो दोस्तो अगर आप मैट्रिक परीक्षा 2024 के लिए तैयारी कर रहे है तो यहां पर क्लास 10th Hindi हिन्दी का महत्वपूर्ण सब्जेक्टिव क्वेश्चन आंसर ( Class 10th Hindi Short Type vvi Subjective Question Answer ) दिया गया है यहां पर क्लास 10th हिन्दी 2024 का मॉडल पेपर ( Class 10th Hindi Model Paper ) तथा ऑनलाइन टेस्ट ( Online Test ) भी दिया गया है और PDF डाउनलोड कर के भी पढ़ सकते हैं । और आप मैट्रिक के फाइनल एग्जाम में अच्छा मार्क्स ला सकते हैं और अपने भाविष्य को उज्वल बना सकते है धन्यवाद –

Contents hide

Matric Hindi Dahi Vaali Mangamma Subjective Questions 2024 [ हिन्दी ] दही वाली मंगम्मा सब्जेक्टिव क्वेश्चन 2024

 हिंदी (Hindi) का मंगम्मा लघु उत्तरीय प्रश्न उत्तर और दीर्घ उत्तरीय प्रश्न उत्तर

                                             लघु उत्तरीय प्रश्न

प्रश्न 1. मंगम्मा का अपनी बहू के साथ किस बात को लेकर विवाद था ?

Join us on Telegram

उत्तर ⇒ मंगम्मा का अपनी बहू के साथ अधिकार को लेकर विवाद था। मंगम्मा अपने बेटे पोते और बहू पर भी अपना अधिकार बनाये रखना चाहती थी, जिसे उसकी बहू मानने को तैयार नहीं थी और यही विवाद का कारण था ।

प्रश्न 2. बहू ने सास को मनाने के लिए कौन-सा तरीका अपनाया ?

उत्तर ⇒ बहू बुद्धिमती थी। उसने सोच समझकर बच्चे को दादी के पास भेज दिया । बच्चा जब दादी के साथ बाजार जाने को मचल रहा था, तो बेटा-बहू ने उसे समझाया, अपनी गलती भी उन्होंने स्वीकार की। पोता ही समझौते का जरिया बन गया, जो बहू की योजना थी ।

प्रश्न 3. रंगप्पा कौन था और वह मंगम्मा से क्या चाहता था ?

उत्तर ⇒ रंगप्पा गाँव का लंपट और जुआड़ी था । वह मंगम्मा से धन चाहता था । इतना ही नहीं वह मंगम्मा को अनाथ समझकर उसकी इज्जत भी लूटना चाहता था ।

प्रश्न 4. मंगम्मा ने अपना ‘धरम’ नहीं छोड़ा, कैसे ?

उत्तर ⇒ रंगप्पा को घास नहीं डालकर मंगम्मा ने अपने धर्म की रक्षा की। रंगप्पा उसकी इज्जत लूटना चाहता था, पर मंगम्मा ने उससे दूरी बनाये रखी।

प्रश्न 5. मंगम्मा की बहू ने विवाद निपटाने में पहल क्यों की ?

उत्तर ⇒ मंगम्मा को बेटा एवं बहू से अलग रहने पर रंगप्पा उसके धन और प्रतिष्ठा पर गिद्ध दृष्टिं जमाये हुए था । बहु की पैनी निगाहों ने ताड़ लिया कि हमारी सास का अलग रहना ठीक नहीं है। इसलिए बहु ने अपनी बुद्धिमानी से विवाद निपटाने का पहल शुरू कर दिया।

प्रश्न 6. ‘दही वाली मंगम्मा’ कहानी का कथावाचक कौन है? उसका परिचय दीजिए ।

उत्तर ⇒ इस कहानी का कथावाचक बेंगलूर की रहनेवाली एक संभ्रान्त महिला थी जिसे मंगम्मा माँ जी कहती थी । वह अंधविश्वासों से दूर और समझदार थी तथा सांसारिक परिस्थितियों को भली-भाँति समझती थी ।

प्रश्न 7. मंगम्मा का चरित्र चित्रण कीजिए ।

उत्तर ⇒ मंगम्मा गाँव की सीधी-सादी नारियों का प्रतिनिधित्व करती है । आज गाँव-शहर सभी जगह मंगम्मा की प्रतिमूर्ति मिलती है । वह कष्ट स कर भी प्रतिष्ठा से रहना चाहती है । वह बेटे-बहू और पोते पर अपना स्वत्व सर्वदा बनाये रखना चाहती है । इस प्रकार वह एक भारतीय नारी है जो सम्मान के साथ जीना चाहती है ।

प्रश्न 8. कथावाचक ने सास और बहू की मा किससे दी ?

उत्तर ⇒ कथावाचक ने पानी में खड़े बच्चे का पाँव खींचनेवाले मगरमच्छ से बहू को और ऊपर से बाँह पकड़कर बचनेवाला रक्षक की उपमा सास को दी है।

प्रश्न 9. इस कहानी से क्या शिक्षा मिलती है ?

उत्तर ⇒ इस कहानी से शिक्षा मिलती है कि मनुष्य को बुढ़ापे में अधिकार के पचड़े में न पड़कर योग्य उत्तराधिकारी को स्वयं अधिकार सौंप देना चाहिए, जिससे न समाज में उपहास हो और न मूर्खों की दाल ही गले ।

प्रश्न 10. ‘दही वाली मंगम्मा’ कहानी का संदेश स्पष्ट करें।

उत्तर ⇒ यह कहानी आधुनिक बहुओं को संदेश देती है कि वे आवेश देखाकर सभी सदस्यों को मिलाकर रखें। इसके लिए बुद्धि का प्रयोग करना ‘नंजम्मा’ के चरित्र से सीखें |

प्रश्न 11. मंगम्मा और नंजम्मा में कौन अधिक बुद्धिमती है ?

उत्तर ⇒ दोनों नारियाँ अधिकार के लिए झगड़ती हैं, किन्तु नजम्मा अपनी नाटकीय योजना से उसे परास्त कर यहाँ तक कि दही बेचने वाला आय का साधन भी उसके हाथ से खुशी-खुशी ले लेती है । अतः, इस व्यवहार से कथाकार ने नंजम्मा को मंगम्मा से अधिक बुद्धिमती बना दिया है ।

                                             दीर्घ उत्तरीय प्रश्न

प्रश्न 1. कहानी का सारांश प्रस्तुत कीजिए ।

उत्तर ⇒ मंगम्मा अवलूर के समीप वेंकटपुर के रहनेवाली थी और रोज दही बेचने बेंगलूर आती थी । मंगम्मा का पति नहीं था और बेटा-बहू से गृह कलह के कारण अलग हो गई । प्रत्यक्ष में तो झगड़े का कारण पोते की पिटाई थी किन्तु मूल रूप में सास-बहू की अधिकार सम्बन्धी ईर्ष्या थी ।
औरत को अकेली जानकर कुछ अवांछित तत्व के लोग उसके धन और प्रतिष्ठा पर भी आँखें उठाते । रंगप्पा ने भी ऐसा ही किया, जिसे बहू की पैनी निगाहों ने ताड़ लिया । उसने पोते को उसके पास भेजने का एक नाटक किया । अब मंगम्मा पोते के लिए मिठाई भी बाजार से खरीदकर ले जाने लगी। एक दिन कौवे ने उसके माथे से मिठाई का दोना ले उड़ा। अंधविश्वास के कारण मंगम्मा भयभीत हो उठी ।
बहू के द्वारा नाटकीय ढंग से पोते को दादी के पास भेजने का बहू का मंत्र बड़ा कारगर हुआ । दूरी बढ़ने से भी प्रेम बढ़ता है । मानसिक तनाव घटता है । हुआ भी ऐसा ही । मंगम्मा को भी बहू में सौहार्द्र, बेटे और पोते में स्नेह नजर आने लगी । बड़े-बूढ़ों ने भी समझाया । बहू ने मंगम्मा का काम अपने जिम्मे ले लिया । बहू ने बड़ी कुशलता से पुनः परिवार में शान्ति स्थापित कर लिया और पूर्ववत् रहने लगी ।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *