Join For Latest Government Job & Latest News

WhatsApp Group Join Now
Telegram Group Join Now
Matric Chemistry Rasayanik Abhikriya Avan Samikaran Subjective Questions [ रसायन विज्ञान ] रासायनिक अभिक्रियाएँ एवं समीकरण सब्जेक्टिव क्वेश्चन
Class 10th Chemistry Subjective Question Answer 2024 Class 10th Subjective Question

Matric Chemistry Rasayanik Abhikriya Avan Samikaran Subjective Questions [ रसायन विज्ञान ] रासायनिक अभिक्रियाएँ एवं समीकरण सब्जेक्टिव क्वेश्चन

रसायन विज्ञान ( Chemistry) रासायनिक अभिक्रियाएँ एवं समीकरण सब्जेक्टिव क्वेश्चन 2024:- हैलो दोस्तो अगर आप मैट्रिक परीक्षा 2024 के लिए तैयारी कर रहे है तो यहां पर क्लास 10th Chemistry रसायन विज्ञान का महत्वपूर्ण सब्जेक्टिव क्वेश्चन आंसर ( Class 10th Chemistry vvi Subjective Question Answer ) दिया गया है यहां पर क्लास 10th रसायन विज्ञान 2024 का मॉडल पेपर( Class 10th Chemistry Model Paper ) तथा ऑनलाइन टेस्ट ( Online Test ) भी दिया गया है और PDF डाउनलोड कर के भी पढ़ सकते हैं । और आप मैट्रिक के फाइनल एग्जाम में अच्छा मार्क्स ला सकते हैं और अपने भाविष्य को उज्वल बना सकते है धन्यवाद

Join us on Telegram

Matric Chemistry Rasayanik Abhikriya Avan Samikaran Subjective Questions [ रसायन विज्ञान ] रासायनिक अभिक्रियाएँ एवं समीकरण सब्जेक्टिव क्वेश्चन

प्रश्न 1. निम्नलिखित अभिक्रियाएँ क्या है ?

(i) संयोजन अभिक्रिया

(ii) वियोजन अभिक्रिया

(iii) विस्थापन अभिक्रिया

(iv) द्विविस्थापन अभिक्रिया

(v) एस्टरीकरण अभिक्रिया

उत्तर ⇒ रासायनिक अभिक्रिया के दौरान किसी एक तत्त्व का परमाणु दूसरे तत्त्व के परमाणु में नहीं बदलता है। न ही कोई परमाणु मिश्रण से बाहर जाता है या बाहर से मिश्रण में
आता है । वास्तव में, किसी रासायनिक अभिक्रिया में परमाणुओं के आपसी आबंध के टूटने और जुड़ने से नए पदार्थों का निर्माण होता है ।

(i) संयोजन अभिक्रिया — ऐसी अभिक्रिया जिसमें दो या दो से अधिक अभिकारक मिलकर एकल उत्पाद का निर्माण करते हैं उसे संयोजन अभिक्रिया कहते हैं। जैसे- कैल्सियम ऑक्साइड जल के साथ तीव्रता से अभिक्रिया करकेबुझे हुए चूने (कैल्सियम हाइड्रोक्साइड) का निर्माण करके अत्यधिक मात्रा में ऊष्मा उत्पन्न करता है।
इस अभिक्रिया में कैल्सियम ऑक्साइड तथा जल मिलकर एकल उत्पाद, कैल्सियम हाइड्रोक्साइड बनाते हैं ।

उदाहरण ⇒ CaO + H2O → Ca(OH)2

(ii) वियोजन अभिक्रिया – वह अभिक्रिया जिसमें एकल अभिकर्मक टूटकर छोटे-छोटे उत्पाद प्रदान करता है । वे वियोजन अभिक्रिया कहलाते हैं ।

उदाहरण ⇒   CaCO3 (s) CaO (s) + CO2

उदाहरण ⇒ 2Pb(NO3)2 2PbO + 4NO2 + O2

(iii) विस्थापन अभिक्रिया – जब कोई तत्व दूसरे तत्त्व को उसके यौगिक से विस्थापित कर देता है तो वह विस्थापन अभिक्रिया होती है ।

उदाहरण ⇒ Zn (s) + CuSO4 (aq)  →   ZnSO4 (aq) + Cu (s)

उदाहरण ⇒ Cl2 + 2Kl (aq)  →  2KCl (aq) + l2

(iv) द्विविस्थापन अभिक्रिया   द्विविस्थापन अभिक्रिया में दो अलग-अलग परमाणु या परमाणुओं के समूह का आपस में आदान-प्रदान होता है ।

उदाहरण ⇒  BaCl2 + Na2SO→  BaSO4 + 2NaCl

उदाहरण ⇒  AgNO3 + NaCl  →   AgCl + NaNO3

(v) एस्टरीकर अभिक्रिया वसा रासायनिक अभिक्रिया है जिसमें सांद्र H2SO4 की उपस्थिति में ऐल्कोहॉल कार्बनिक अम्ल से अभिक्रिया कर एस्टर का निर्माण करते हैं। यथा सांद्र H2SO4 की उपस्थिति में एथिल ऐल्कोहॉल
ऐसीटिक अम्ल से अभिक्रिया कर एथिल ऐसीटेट बनाता है।

उदाहरण ⇒ C2H5OH + CH3COOH   →   CH3COOC2H5 + H2O

प्रश्न 2.  संक्षारण क्या है ? संक्षारण रोकने के उपाय बताइए । एक-एक उदाहरण दें ।

(a) संक्षारण ।

(b) विकृतगंधिता ।

उत्तर ⇒ (a) संक्षारण – लोहे की बनी हुई वस्तुएँ चमकीली होती हैं, लेकिन कुछ समय पश्चात् उन पर लालिमायुक्त भूरे रंग की परत चढ़ जाती है। आमतौर पर इस प्रक्रिया को लोहे पर जंग लगना कहते हैं। कुछ अन्य धातुओं में भी ऐसा ही
परिवर्तन होता है । जब कोई धातु अपने आसपास अम्ल, नमी आदि के संपर्क में आती है तब ये संक्षारित होती हैं और इस प्रक्रिया को संक्षारण कहते हैं।

उदाहरण ⇒ चाँदी के ऊपर काली पर्त और ताँबे के ऊपर हरी पर्त चढ़ना ।

संक्षारण के कारण कार के ढाँचे, पुल, जहाज तथा धातु विशेषकर लोहे से बनी वस्तुओं की बहुत क्षति होती है ।

(b) विकृतगंधिता – वसायुक्त अथवा तैलीय खाद्य सामग्री जब लंबे समय तक रखा जाता है तब उसका स्वाद या गंध में परिवर्तन आ जाता है । उपचयित होने पर तेल और वसा विकृत गंधी हो जाते हैं तथा उनके स्वाद तथा गंध बदल जाते हैं ।
वायुरोधी बर्तनों में खाद्य सामग्री रखने से उपचयन की गति धीमी हो जाती है । क्या आप जानते हैं कि चिप्स बनाने वाले चिप्स की थैली को नाइट्रोजन जैसे गैस से युक्त कर देते हैं ताकि चिप्स का उपचयन न हो सके और उन्हें देर तक संरक्षित रखा जा सके ।

प्रश्न 3 : निम्न समीकरणों को संतुलित करें ।

(i)  Fe2O3 + Al  →   Fe + Al2O3 + ऊष्मा

उत्तर ⇒ Fe2O3 + 2Al  → 2Fe + Al2O3 + ऊष्मा

(ii)  Na2SO4 + BaCl2 →  BaSO4 + NaCl

उत्तर ⇒  Na2SO4 + BaCl2 →  BaSO4 + 2NaCl

(iii)  Pb (NO3)2 →   PbO + NO2 + O2

उत्तर ⇒ 2Pb(NO3)2 2PbO + 4NO2 + O

(iv) Fe + H2O →Fe3O4 + H2

उत्तर ⇒ 3Fe + 4H2O → Fe3O4 + 4H2

(v) NaCl + H2O → NaOH + Cl2 + H2

उत्तर ⇒ 2NaCl + 2H2O → 2NaOH + Cl2 + H2

प्रश्न 4. ऑक्सीजन के योग या ह्रास के आधार पर निम्न पदों की व्याख्या करें । प्रत्येक के लिए दो उदाहरण दें।

(a) उपचयन

(b) अपचयन

उत्तर ⇒ (a) उपचयन – किसी अभिक्रिया में पदार्थ का उपचयन तब होता है जब उसमें ऑक्सीजन की वृद्धि या हाइड्रोजन का ह्रास होता है ।

उदाहरण ⇒ (i) 2Mg + O2 → 2MgO

उदाहरण ⇒ (ii) CuO + H2 → Cu + H2O

(b) अपचयन– पदार्थ का अपचयन तब होता है जब उसमें ऑक्सीजन का ह्रास या हाइड्रोजन की वृद्धि होती है ।

उदाहरण ⇒ (i) ZnO + C Zn + CO

उदाहरण ⇒ (ii) Fe2O3 + Al  2Fe + AL2O3

प्रश्न 5. उपचयन एवं अपचयन की उदाहरण सहित संक्षेप में व्याख्या कीजिए ।

उत्तर ⇒ किसी अभिक्रिया में पदार्थ का उपचयन तब होता है जब उसमें ऑक्सीजन की वृद्धि या हाइड्रोजन का हास होता है, इसके विपरीत पदार्थ का अपचयन तब होता है जब उसमें ऑक्सीजन का हास या हाइड्रोजन की वृद्धि होती है।

उदाहरण ⇒ कॉपर चूर्ण के सतह पर कॉपर ऑक्साइड-की काली परत चढ़ जाती है। यह काला पदार्थ क्यों बना जाता है क्योंकि यह कॉपर ऑक्साइड कॉपर में ऑक्सीजन के योग से बनाता है।

 2Cu + O 2Cuo

यदि इस गर्म पदार्थ के ऊपर हाइड्रोजन गैस प्रवाहित की जाए तो सतह की काली परत भूरे रंग की हो जाती है, क्योंकि इस स्थिति में विपरीत अभिक्रिया होती है तथा कॉपर प्राप्त होता है

 Cuo + H Cu + H2O

अभिक्रिया के दौरान जब किसी पदार्थ में ऑक्सीजन की वृद्धि होती है तो कहते हैं कि उसका उपचयन हुआ है और जब अभिक्रिया में किसी पदार्थ में ऑक्सीजन का ह्रास होता है तो कहते हैं कि उसका अपचयन हुआ |

अभिक्रिया में कॉपर (II) ऑक्साइड में ऑक्सीजन का ह्रास हो रहा है, इसलिए यह अपचयित हुआ है। हाइड्रोजन में ऑक्सीजन की वृद्धि हो रही है, इसलिए यह उपचयित हुआ है ।
अर्थात्, किसी अभिक्रिया में एक अभिकारक उपचयित तथा दूसरा अभिकारक अपचयित होता है । इन अभिक्रियाओं को उपचयन-अपचयन अथवा रेडॉक्स अभिक्रिया कहते हैं ।

उदाहरण ⇒ CuO + H2 Cu + H2O

रेडॉक्स अभिक्रिया के कुछ अन्य उदाहरण –

(i) ZnO + C → Zn + CO

(ii) MnO2 + 4HCl → MnCl2 + 2H2O + Cl

प्रश्न 6. वियोजन अभिक्रिया को संयोजन अभिक्रिया के विपरीत क्यों कहा जाता है ? इन अभिक्रियाओं के लिए समीकरण लिखिए ।

उत्तर ⇒ वे अभिक्रियाएँ जिनमें दो या अधिक पदार्थ संयुक्त होकर केवल एक पदार्थ बनाते हैं, संयोजन अभिक्रियाएँ कहलाती हैं तथा वे अभिक्रियाएँ जिनमें यौगिक दो अधिक सरल पदार्थों में टूटता है, वियोजन अभिक्रियाएँ कहलाती हैं।
अतः वियोजन अभिक्रिया, संयोजन अभिक्रिया के बिल्कुल विपरीत है ।

उदाहरण ⇒ (i) हाइड्रोजन, ऑक्सीजन में जलकर जल बनाती है

2H2 (g) + O2 (g)  2H2O (I)

जल में जब विद्युत-धारा प्रवाहित की जाती है, यह वियोजित होकर हाइड्रोजन गैस और ऑक्सीजन गैस देता है ।

2H2O (I) 2H2 (g) + O2 (g)

उदाहरण ⇒ (ii) सोडियम धातु क्लोरीन में जलकर सोडियम क्लोराइड बनाता है ।
2Na + Cl2 2NaCl

गलित सोडियम क्लोराइड में जब विद्युत धारा प्रवाहित की जाती है, यह वियोजित होकर सोडियम धातु और क्लोरीन गैस देता है ।

2NaCl 2Na + Cl2

प्रश्न 7. (a) निम्नलिखित अभिक्रिया में अपचयित होनेवाले पदार्थ और उपचयित होनेवाले पदार्थ का नाम लिखिए :

SO2 + 2H2S → 2H2O + 3S

(b) निम्नलिखित अभिक्रिया में उपचायक और अपचायक चुनिए :

H2S + l2 → 2Hl + S

उत्तर ⇒ (a) (i) यहाँ पर SO2 का परिवर्तन S में हो रहा है। यह SO2 से O का निष्कासन है। परिभाषा के अनुसार, ऑक्सीजन का निष्कासन अपचयन कहलाता
है । अत:, SO2 का S में अपचयन हो रहा है । अतः, पदार्थ जो अपचयित हो रहा है, सल्फर डाइऑक्साइड (SO2) है ।

(ii) H2S का परिवर्तन $ में हो रहा है । यह H2S से हाइड्रोजन (H) का निष्कासन है । परिभाषा के अनुसार, हाइड्रोजन का निष्कासन उपचयन कहलाता है अतः H2S का S में उपचयन हो रहा है ।
इसलिए पदार्थ जो उपचयित हो रहा है, हाइड्रोजन सल्फाइड (H2S) है ।

उत्तर ⇒ (b) (i) H2S का परिवर्तन S में हो रहा है । यह H2S से हाइड्रोजन का निष्कासन है । परिभाषा के अनुसार, हाइड्रोजन का निष्कासन उपचयन होता है । इसलिए हाइड्रोजन सल्फाइड, सल्फर में उपचयित हो रहा है।
आयोडीन H2S से हाइड्रोजन निष्कासित कर रहा है। इसलिए, आयोडीन (l2) उपचायक है ।

(ii) l2 का परिवर्तन HI में हो रहा है । यह आयोडीन के हाइड्रोजन का योग है । परिभाषा के अनुसार, हाइड्रोजन का योग अपचयन होता है । इसलिए आयोडीन, हाइड्रोजन आयोडाइड (HI) में अपचयित हो रहा है ।
हाइड्रोजन सल्फाइड, अपचयन के लिए आवश्यक हाइड्रोजन प्रदान कर रहा है। इसलिए, हाइड्रोजन सल्फाइड H2S अपचायक है ।

प्रश्न 8. निम्नांकित रासायनिक अभिक्रियाओं के संतुलित रासायनिक समीकरण लिखें ।

(a) एल्युमीनियम + ऑक्सीजन

उत्तर ⇒ 4Al + 3O2 → 2AI2O3

(b) एल्युमीनियम ऑक्साइड + हाइड्रोक्लोरिक अम्ल

उत्तर ⇒ 4Al2O3 + 6HCl → 2AlCl + 3H2O

(c) कैल्सियम + जल

उत्तर ⇒ Ca + 2H2O → Ca(OH)2 + H2

(d) लोहा + भाप

उत्तर ⇒ 2Fe + 4H2O → Fe3O4 + 4H2

(e) सोडियम + जल

उत्तर ⇒ 2Na + 2H2O → 2NaOH + H2

प्रश्न 9. निम्नांकित अभिक्रियाओं के लिए संतुलित रासायनिक समीकरण लिखें :

(a) मेथेन को वायु में जलाया जाता है

उत्तर ⇒ CH4 + 2O2 → CO2 + 2H2O + ऊष्मा

(b) एथेनॉल को वायु में जलाया जाता है ।

उत्तर ⇒ C2H5OH + 3O2 → 2CO2 + 3H2O + ऊष्मा

(c) एथेनॉल, सोडियम के साथ अभिक्रिया करता है

उत्तर ⇒ 2C2H5OH + 2Na → 2C2H5ONa + H2

(d) एथेनॉइक अम्ल, सोडियम हाइड्रोक्सॉइड के साथ अभिक्रिया करता है ।

उत्तर ⇒ CH3COOH + NaOH → CH3COONa + H2O

(e) एथेनॉइक अम्ल, सोडियम कार्बोनेट के साथ अभिक्रिया करता है

उत्तर ⇒ 2CH3COOH + Na2CO → 2CH3COONa + H2O + CO2

 

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *