Join For Latest Government Job & Latest News

WhatsApp Group Join Now
Telegram Group Join Now
Class 10th Hindi Grammar Varn Vichar Subjective and Objective Questions [ हिंदी व्याकरण ] वर्ण विचार सब्जेक्टिव और ऑब्जेक्टिव क्वेश्चन
Class 10th Biology Subjective Question Answer 2024 Class 10th Subjective Question

Matric Biology Hamara Paryavaran Subjective Questions 2024 [ जीवविज्ञान ] हमारा पर्यावरण सब्जेक्टिव क्वेश्चन 2024

जीवविज्ञान ( Biology) हमारा पर्यावरण लघु उत्तरीय सब्जेक्टिव क्वेश्चन 2024:- हैलो दोस्तो अगर आप मैट्रिक परीक्षा 2024 के लिए तैयारी कर रहे है तो यहां पर क्लास 10th Biology जीवविज्ञान का महत्वपूर्ण सब्जेक्टिव क्वेश्चन आंसर ( Class 10th Biology Short Type vvi Subjective Question Answer ) दिया गया है यहां पर क्लास 10th जीवविज्ञान 2024 का मॉडल पेपर ( Class 10th Biology Model Paper ) तथा ऑनलाइन टेस्ट ( Online Test ) भी दिया गया है और PDF डाउनलोड कर के भी पढ़ सकते हैं । और आप मैट्रिक के फाइनल एग्जाम में अच्छा मार्क्स ला सकते हैं और अपने भाविष्य को उज्वल बना सकते है धन्यवाद

Join us on Telegram

Matric Biology Hamara Paryavaran Subjective Questions 2024 [ जीवविज्ञान ] हमारा पर्यावरण सब्जेक्टिव क्वेश्चन 2024

प्रश्न 1. उत्पादक से आप क्या समझते हैं ?

उत्तर ⇒ उत्पादक वे जीव होते हैं जो खाद्य-पदार्थ का उत्पादन करते हैं। इस वर्ग के अंतर्गत वे समस्त पौधे आते हैं जिनमें क्लोरोफिल नामक हरित वर्णक होता है। ये पौधे सूर्य के प्रकाश की सहायता से प्रकाश संश्लेषण प्रक्रिया द्वारा खाद्य- पदार्थ उत्पन्न करते हैं।

प्रश्न 2. प्रदूषण से आप क्या समझते हैं ? अथवा, पर्यावरण प्रदूषण क्या है ? तीन अजैव निम्नीकरणीय प्रदूषकों के नाम दीजिए जो मनुष्य के लिये हानिकारक हैं

उत्तर ⇒ यूनाइटेड स्टेट ऑफ अमेरिका के पर्यावरणीय प्रदूषण वैज्ञानिकों ने प्रदूषण की परिभाषा इस प्रकार दी है “हमारे आस-पास के पर्यावरण में पूर्ण या आंशिक अनैच्छिक परिवर्तन जिनमें से कुछ मनुष्य की क्रियाओं द्वारा, कुछ भौतिक और रासायनिक संघटन में परिवर्तन द्वारा तथा कृषि उत्पादन में मनुष्य द्वारा अपनायी विधियों द्वारा ऐसे परिवर्तन जो हमारे पर्यावरण को प्रभावित करते हैं।”
डी०डी० टी०, पारा, सीसा एवं पीड़कनाशी अजैव निम्नीकरण प्रदूषक हैं। ये मनुष्य को अधिक हानि पहुँचाते हैं।

प्रश्न 3. आहार – श्रृंखला क्या है ? एक स्थलीय आहार श्रृंखला का उदाहरण दें।

उत्तर ⇒ पारिस्थितिक तंत्र के सभी जैव घटक शृंखलाबद्ध तरीके से एक-दूसरे से जुड़े होते हैं तथा अन्योन्याश्रय सम्बन्ध रखते हैं । यह श्रृंखला आहार श्रृंखला कहलाती है।

प्रश्न 4 पारितंत्र में अपघटकों की क्या भूमिका है ?
अथवा, अपघटक क्या हैं ? जीवमंडल में अपघटकों का क्या महत्त्व है ?

उत्तर ⇒ अपघटक वे सूक्ष्मजीव हैं जो मृत पौधों एवं जंतुओं के मृत शरीर में उपस्थित कार्बनिक यौगिकों का अपघटन करते हैं तथा उन्हें सरल यौगिकों और तत्त्वों में बदल देते हैं | ये सरल यौगिक तथा तत्व पृथ्वी के पोषण भंडार में वापस चले जाते हैं । जीवमंडल में अपघटकों का महत्त्व — अपघटक जीव मृत पौधों और जंतुओं के मृत शरीरों के अपघटन में सहायता करते हैं तथा इस प्रकार वातावरण को स्वच्छ रखने का कार्य करते हैं। अपघटक जीव मृत पौधों एवं जंतुओं के मृत शरीरों में उपस्थित विभिन्न तत्त्वों को फिर से पृथ्वी के पोषण भंडार में वापस पहुँचाने का कार्य भी करते हैं । पोषक तत्त्व पुनः प्राप्त हो जाने से मिट्टी की उपजाऊ शक्ति बनी रहती है और यह मिट्टी बार-बार फसलों का पोषण करती रहती है ।

प्रश्न 5. ओजोन की क्षति को सीमित करने के लिए क्या कदम उठाये गये हैं ?
अथवा, ओजोन परत की क्षति हमारे लिए चिन्ता का विषय क्यों है ? इस क्षति को सीमित करने के लिए क्या कदम उठाये गये हैं ?

उत्तर ⇒ हम क्लोरोफ्लोरो कार्बन्स का प्रयोग प्रशीतकों में तथा अग्निशामक में करते हैं जबकि ये रसायन वायुमंडल में मिश्रित होकर उसमें उपस्थित ओजोन का विश्लेषण करते हैं । सूर्य से निकलने वाली पराबैंगनी किरणें पृथ्वी के वायुमंडल की बाह्य परिसीमा में उपस्थित ओजोन की पर्त का विश्लेषण करके उसे सामान्य ऑक्सीजन में परिवर्तित कर देती हैं । इस प्रकार से ओजोन की संकरी पेटी में छिद्र होने तथा उस पर्त्त के पतला पड़ने की संभावना बन जाती है। पराबैंगनी किरणें पृथ्वी पर पहुँचकर तथा जीवधारियों के शरीर के सम्पर्क में आने पर उन्हें कैंसर प्रिय बना देती है | अतः, CFCs का प्रयोग हमें अपने जीवन में बहुत कम (सीमित) कर देना चाहिए जिससे ओजोन स्तर को किसी प्रकार की हानि न हो ।

प्रश्न 6. अगर किसी पारितंत्र के सारे माँसाहारियों को नष्ट कर दिया जाए तो उस पारितंत्र पर क्या प्रभाव पड़ेगा ?
अथवा, क्या होगा यदि हम एक पोषी स्तर के सभी जीवों को समाप्त कर ( मार डालें ) ?

उत्तर ⇒ यदि एक पोषी स्तर के सभी जीवों को समाप्त कर दें तो पारिस्थितिक संतुलन प्रभावित हो जाएगा । प्रकृति की सभी खाद्य श्रृंखलाएँ एक-दूसरे से जुड़ी हुई हैं । जब किसी एक कड़ी को पूरी तरह समाप्त कर दिया जाए तो उस आहार शृंखला का संबंध किसी दूसरी श्रृंखला से जुड़ जाता है । यदि आहार श्रृंखला से शेरों को मार दिया जाएं तो घास चरने वाले हिरणों की वृद्धि अनियंत्रित हो जाएगी । उनकी संख्या बहुत अधिक बढ़ जाएगी। उनकी बढ़ी हुई संख्या घास और वनस्पतियों को खत्म कर देगी कि वह क्षेत्र रेगिस्तान बन जाएगा। सहारा का रेगिस्तान इसी प्रक%