Join For Latest Government Job & Latest News

WhatsApp Group Join Now
Telegram Group Join Now
Class 10th Hindi Grammar Varn Vichar Subjective and Objective Questions [ हिंदी व्याकरण ] वर्ण विचार सब्जेक्टिव और ऑब्जेक्टिव क्वेश्चन
Class 10th Disaster Management Subjective Question Class 10th Subjective Question

Matric Disaster Management Subjective Questions [ आपदा प्रबंधन ] आपदा और सह – अस्तित्व सब्जेक्टिव क्वेश्चन 2024

आपदा प्रबंधन (Disaster Management) आपदा और सह – अस्तित्व सब्जेक्टिव क्वेश्चन 2024:- हैलो दोस्तो अगर आप मैट्रिक परीक्षा 2024 के लिए तैयारी कर रहे है तो यहां पर क्लास 10th Disaster Management आपदा प्रबंधन का महत्वपूर्ण ऑब्जेक्टिव क्वेश्चन आंसर ( Class 10th Disaster Management vvi Subjective Question Answer ) दिया गया है यहां पर क्लास 10th आपदा प्रबंधन 2024 का मॉडल पेपर ( Class 10th Disaster Management Model Paper ) तथा ऑनलाइन टेस्ट ( Online Test ) भी दिया गया है और PDF डाउनलोड कर के भी पढ़ सकते हैं । और आप मैट्रिक के फाइनल एग्जाम में अच्छा मार्क्स ला सकते हैं और अपने भाविष्य को उज्वल बना सकते है धन्यवाद –

Join us on Telegram

Matric Disaster Management Subjective Questions [ आपदा प्रबंधन ] आपदा और सह – अस्तित्व सब्जेक्टिव क्वेश्चन 2024

 

प्रश्न 1. भू-स्खलन से बचाव के किन्हीं दो उपायों का उल्लेख करें

उत्तर ⇒ भू-स्खलन से बचाव के किन्हीं दो उपाय हैं
(i) वनों की कटाई पर रोक ।
(ii) खनन और उत्खनन पर रोकथाम ।

प्रश्न 2. भू-स्खलन क्या है ?

उत्तर ⇒ भूस्खलन सामूहिक स्थानांतरण का एक प्रक्रम है जिसमें शैलें तथा शैलचूर्ण गुरुत्व के कारण ढालों पर से नीचे सरकती है।

प्रश्न 3. भू-स्खलन के पाँच कौन-कौन से रूप हैं ? वर्णन करें ।

उत्तर ⇒ भू-स्खलन के पाँच रूप अग्रलिखित हैं– (i) वर्षा का पानी के साथ मिट्टी और कचड़े का नीचे आना, (ii) कंकड़-पत्थरों का खिसकना, (iii) कंकड़- पत्थरों का गिरना, (iv) चट्टानों का खिसकना तथा (v) चट्टानों का गिरना आदि।

प्रश्न 4. सुनामी संभावित क्षेत्रों में गृह निर्माण पर अपना विचार प्रकट कीजिए ।

उत्तर ⇒ सुनामी के आशंका वाले तटीय क्षेत्रों में मकान ऊँचे स्थानों पर और तट से करीब सौ मीटर की दूरी पर बनाना चाहिए, तट से दूर बसने के लिए प्रोत्साहन करना चाहिए एवं ऐसे मकानों का निर्माण हो जो भूकम्प एवं सुनामी लहरों के प्रभाव को न्यून कर सके और मकान कंक्रीट अवरोधक का निर्माण होना चाहिए ।

प्रश्न 5. भू-स्खलन अथवा बाढ़ जैसी प्राकृतिक विभीषिकाओं का सामनी आप किस प्रकार कर सकते हैं ? विस्तार से लिखिए।

उत्तर ⇒ भू-स्खलन जैसी प्राकृतिक विभीषिका का सामना के लिए निम्नलिखित बातों को ध्यान में रखना चाहिए
(i) मिट्टी की प्रकृति के अनुरूप उपर्युक्त नींव बनाना ।
(ii) ढालवाँ स्थानों पर आवासों का निर्माण न करना ।
(iii) सामान्य एवं वैकल्पिक संचार प्रणालियों की समुचित व्यवस्था होना । (iv) वनस्पतिविहीन ऊपरी ढालों पर उपयुक्त वृक्ष का सघन रोपण | (v) सड़कों, नहरें – निर्माण, बारिश के पानी एवं सिंचाई का ध्यान दिया जाए कि प्राकृतिक जल की निकासी अवरुद्ध न हो ।
(vi) भू-स्खलन को रोकने के लिए पुख्ता दीवारों तथा निर्माण किया जाना चाहिए ।
(vii) भूमि के नीचे बिछाये जाने वाले पाइप, केबल आदि लचीले होने चाहिए ताकि भू-स्खलन से उत्पन्न दबाव का सामना कर सकें । इसके अलावे खड़ी ढलानों के तल पर बने मकानों के मालिक कुछ स्थितियों में ऐसे अवरोधक या जल-ग्रहण क्षेत्र का निर्माण कर सकते हैं। जो छोटे-छोटे भू-स्खलन को रोक सकते हैं।

प्रश्न 6. सूखा क्षेत्र में कौन-सा कृषि-पद्धति अधिक लाभप्रद है ?

उत्तर ⇒ शुष्क कृषि पद्धति अधिक लाभप्रद है I

प्रश्न 7. सूखे के दुष्प्रभाव को कैसे कम किया जा सकता है ?

उत्तर ⇒ सूखे के दुष्प्रभाव को कम करने के लिए स्थानीय समुदायों के सहयोग से मृदा और जल संरक्षण के सभी प्रकार के उपाय किए जा सकते हैं ।

प्रश्न 8. सूखाग्रस्त क्षेत्र में कौन-कौन सी फसले लगाई जा सकती है ?

उत्तर ⇒ सूखाग्रस्त क्षेत्रों में मशरूम, औषधि पौधे, नागफणि, ज्वार, बाजरा इत्यादि फसलें लगाई जा सकती है।

प्रश्न 9. नरम मिट्टी पर नींव का निर्माण किस प्रकार किया जाना चाहिए ?

उत्तर ⇒ नरम मिट्टी पर नींव के निर्माण से बचना चाहिए अथवा मिट्टी कठोर तथा सुभ्बद्ध (compact ) बना कर ही निर्माण कार्य करना चाहिए।

प्रश्न 10. कठोर मिट्टी पर नींव का निर्माण किस प्रकार किया जाना चाहिए ?

उत्तर ⇒ कठोर मिट्टी पर नींव किसी भी प्रकार बनाई जा सकती है। बस एक बात का ध्यान रखना चाहिए कि इसके आधार को सीमेंट एवं कजरी अथवा चूने से मजबूत बनाया जाए और उसकी चौड़ाई उपयुक्त हो ।

प्रश्न 11. आपदा के समय बचाव के लिए किसके सहयोग की आवश्यकता होती है ?

उत्तर ⇒ सह-अस्तित्व की सफलता आपसी सहयोग, गैर सरकारी संगठन, अर्द्ध-सरकारी संगठन, जैसी राष्ट्रीय सेवा योजना, होमगार्ड, नेहरू युवा केन्द्र, राष्ट्रीय कैडेट कोर एवं केन्द्र एवं राज्य सरकार के सहयोग आदि ।

प्रश्न 12. भू-स्खलन के लिए उत्तरदायी चार मानव निर्मित कारकों का उल्लेख करें ।

उत्तर ⇒ मानव निर्मित चार कारक हैं (i) वनों की कटाई तथा मृदा अपरदन, (ii) अनुचित ढंग से की गई खुदाई, (iii) खनन तथा (iv) योजना रहित निर्माण कार्य ।

प्रश्न 13. किसी भवन को भू-स्खलन के खतरे से बचाने के लिए भवन निर्माण की कौन-कौन सी तकनीकें अपनाई जाती हैं ?

उत्तर ⇒ भवन को भूस्खलन के खतरे से बचाने के लिए निम्नलिखित तकनीकें अपनाई जाती हैं-
(i) स्थाई ढाल का निर्माण (iii) धरातल पर पौधा रोपण (v) झुकती दीवारें इत्यादि ।
(ii) उचित जल निकास प्रणाली (iv) मिट्टी को कठोर बनाना तथा

प्रश्न 14. बाढ़ के खतरे को कम करने के लिए निर्माण कार्य में किन-किन तकनीकों का प्रयोग किया गया है ?

उत्तर ⇒ बाढ़ के खतरे को कम करने के लिए निर्माण कार्य में निम्नलिखित तकनीकों का प्रयोग किया जाता है-
(i) भवन का उच्च स्थान पर निर्माण करें ताकि मकान का प्रथम तल बाढ़ के जल स्तर से ऊँचा हो ।
(ii) जल अवरोधक प्रवेश द्वार बनाना ।
(iii) निर्माण में ऐसी सामग्री प्रयोग में लाना आवश्यक है जो जलरोधी हो ।

प्रश्न 15. शुष्क – कृषि पद्धति की विधियाँ लिखें ।

उत्तर ⇒ शुष्क कृषि-पद्धति की निम्नलिखित विधियाँ हैं-

(i) खेतों की गहरी जुताई ताकि धरातल के नीचे की नमी युक्त मिट्टी ऊपर आ जाए ।
(ii) ऐसी फसलों की बोआई जो सूखे को अधिक सहन करने की क्षमता रखते हो ।
(iii) सामान्य सिंचाई विधि के स्थान पर ड्रिप तथा छिड़काव विधि से सिंचाई करना ।
(iv) ऐसे बीज का प्रयोग करना चाहिए जो कम समय में फसलों का उत्पादन करता हो ।
(v) जब होती है तब उसके जल का अधिकतम उपयोग करना ।
(vi) छोटे-छोटे बाँध तथा जलाशय का निर्माण तथा ऐसे नहरों का निर्माण जिसके तल में कंक्रीट बिछा हो। इससे जल को रोका जा सकता है
(vii) ढाल के समकोण पर बाँध बनाना तथा खेती को सीढ़ीनुमा बनाना जिससे जल का अधिक से अधिक उपयोग हो सके ।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *