Join For Latest Government Job & Latest News

WhatsApp Group Join Now
Telegram Group Join Now

मध्यप्रदेश में गेहूं की खरीद काफी तेज, गेहूं खरीद का आंकड़ा 17 मिलियन टन के पार, जाने ताजा भाव

MP Wheat Purchase Rate 2023 : नमस्कार दोस्तों पूरे भारत में इस समय जिस जिस राज्य में गेहूं की फसल का समय चल रहा है वहां पर गेहूं की फसल को काटकर अब सभी किसान उसको बेचने जा रहे हैं। बात करें तो मध्यप्रदेश में इस समय गेहूं की खरीद समर्थन मूल्य पर की जा रही है। गेहूं की खरीद की प्रक्रिया मध्यप्रदेश में काफी तेजी से हो रही है। और ऐसा सुनने में आ रहा है कि इस साल मध्यप्रदेश में गेहूं की फसल काफी अच्छी हुई है। पिछले साल की बात करें तो मध्य प्रदेश सरकार ने बहुत ही कम गेहूं किसानों से खरीदा था। पर इस बार प्रदेश में गेहूं की फसल काफी अच्छी हुई है जिससे मध्यप्रदेश सरकार बहुत ही खुश है और गेहूं खरीद की प्रक्रिया काफी तेजी से करवा रही है।

Join us on Telegram

सरकार की तरफ से किसानों से गेहूं की खरीद अब तक 17 मिलियन टन से भी ज्यादा हो चुकी है। इस साल सरकार इस खरीद को दोगुना करने में लगी हुई है। इस साल मध्य प्रदेश सरकार किसानों से गेहूं की खरीद कुल मिलाकर 34 मिलियन से भी ज्यादा का टारगेट लिया है। प्रदेश के अंदर गेहूं की खरीदी समर्थन मूल्य पर किए जाने में उज्जैन जिला अव्वल स्थान प्राप्त किया है। उज्जैन जिला में किसानों को गेहूं की खरीद के समय उनको उचित मूल्य दिया जा रहा है। आइए जानते हैं कि मध्यप्रदेश में गेहूं की कितनी फसल किस पर हुई है और इस बार मध्य प्रदेश सरकार ने गेहूं का समर्थन मूल्य क्या रखा है।

MP के उज्जैन जिले ने मारी बाज़ी

केंद्र सरकार की तरफ से निर्धारित किया गया न्यूनतम समर्थन मूल्य पर किसानों से गेहूं की खरीद की जा रही है। भारत के न्यूनतम समर्थन मूल्य पर किसानों से गेहूं खरीद के मामले में पूरे देश में मध्यप्रदेश काफी अच्छा प्रदर्शन कर रहा है। अब तक मध्य प्रदेश में किसानों से 4.25 मिलियन टन गेहूं की खरीद की जा चुकी है। और मधु प्रदेश सरकार ने इस सत्र में किसानों से गेहूं खरीदने का टारगेट 8 मिलियन टन का रखा है। पिछली बार से मध्यप्रदेश में गेहूं की फसल 66% अधिक हुई है। भारत में और राज्य की बात करें तो हरियाणा और उत्तर प्रदेश में गेहूं की फसलों में वृद्धि हो रही है लेकिन अगर बात करें पंजाब राज्य की तो वहां हर साल की अपेक्षा इस साल गेहूं की फसल काफी कम हुई है। भारत के दृष्टिकोण से यह बहुत ही बुरी खबर है।

मध्यप्रदेश के उज्जैन जिले ने गेहूं की खरीद के मामले में काफी ही अच्छा प्रदर्शन किया है। वर्तमान की बात की जाए तो इस समय उज्जैन के जिलाधिकारी श्री कुमार पुरुषोत्तम जी हैं। उन्हीं के कार्यकाल के दौरान उज्जैन जिला ने गेहूं की फसल काफी अच्छी हुई है। जिससे मध्य प्रदेश सरकार एवं केंद्र सरकार को काफी फायदा होगा। श्री कुमार पुरुषोत्तम जी के के अंतर्गत उज्जैन जिले में अब तक 172 क्रय केंद्रों पर 5.7 मिलियन मैट्रिक टन गेहूं की खरीद की जा चुकी है। इतने भारी मात्रा की गेहूं की कुल मिलाकर 60738 किसानों के द्वारा किया गया है। सभी किसानों को केंद्र सरकार के द्वारा निर्धारित किए गए न्यूनतम समर्थन मूल्य पर ही उनसे गेहूं की खरीद की जा रही है।

उज्जैन के सभी केंद्रों की जांच

मध्य प्रदेश के उज्जैन जिले में गेहूं की खरीद के मामले में काफी अच्छा प्रदर्शन किया है। पर आपकी जानकारी के लिए बता दें कि इसके लिए कलेक्टर ने किसानों को बहुत सारी सुविधाओं को देने का निर्देश दिया था. यही कारण है कि उज्जैन जिले में मध्यप्रदेश में गेहूं फसल के उपज के मामले में अच्छा प्रदर्शन किया है। श्री कुमार पुरुषोत्तम ने सभी केंद्रों पर निरीक्षण के दौरान वह केंद्र पर उपस्थित सभी किसानों से केंद्रों पर होने वाली समस्याओं के बारे में जाना और समस्याओं का समाधान तुरंत किया। जिससे किसानों को काफी मदद मिल रही है।

किसानों ने जिलाधिकारी को बहुत सारी समस्याओं से अवगत कराया जैसे मैं कॉल काट दें एवं हम्मालो की संख्या को बढ़ाने के संबंध में एवं उनके द्वारा भेजे गए फसल के भुगतान समय पर ना मिलने की समस्या भी बताई गई। जिलाधिकारी ने तुरंत अपने नीचे अधिकारियों को इन सभी समस्याओं को सुलझाने का निर्देश दिया है। और साथ ही जिन किसानों के फसल खरीद ली गई उनका समय पर भुगतान हो इसके लिए भी जिलाधिकारी ने निर्देश दिया है। समय-समय पर सभी केंद्रों के निरीक्षण जिलाधिकारी श्री कुमार पुरुषोत्तम द्वारा किया जा रहा है। निरीक्षण के दौरान मिल रही समस्याओं को तुरंत समाधान भी किया जा रहा है।

गेहूं की कीमत 2125 रुपए प्रति कुंतल

इस साल मध्य प्रदेश सरकार ने गेहूं की खरीद की प्रक्रिया को काफी देर से शुरू किया है इसका कारण है कि बिन मौसम बारिश होने की वजह से देर हुई है। मध्य प्रदेश सरकार ने इस साल गेहूं की कीमत किसानों को 2125 रुपए प्रति कुंटल के हिसाब से देगी। इस साल मध्य प्रदेश सरकार ने प्रदेश में किसानों को ₹2125 प्रति कुंतल के हिसाब से कुल मिलाकर 36301 करोड़ रुपए का भुगतान किया है। मौसम बिगड़ने की वजह से मध्य प्रदेश सरकार काफी चिंता में थी कि पीडीएस अनाज वितरण का काम कैसे होगा। पर अभी मौसम ठीक है और गेहूं खरीद की प्रक्रिया काफी तेजी में चल रही है जिससे मध्य प्रदेश सरकार की चिंता अब खत्म हो चुकी है।

गेहूं पर बेचते समय जरूरी दस्तावेज

मध्यप्रदेश में गेहूं खरीद की प्रक्रिया काफी तेजी से चल रही है. इस साल मध्य प्रदेश सरकार ने गेहूं की न्यूनतम समर्थन मूल्य ₹2125 प्रति कुंतल तय किया है. इसी रेट के अनुसार मध्य प्रदेश के सभी केंद्रों पर किसानों से उनकी हूं ली जाएगी और इसी के आधार पर किसानों को भुगतान किया जाएगा. गेहूं बेचते समय किसानों को कुछ दस्तावेजों की आवश्यकता पड़ती है. आइए जानते हैं वह कौन-कौन सी दस्तावेज हैं:-

  • किए गए आवेदन की छाया प्रति
  • खेत की खतौनी की छाया प्रति
  • पासबुक की छायाप्रति
  • आधार कार्ड की छाया प्रति
  • और भी अन्य जरूरी दस्तावेज

MP Gehu Registration 2023 Link : Click Here

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Scroll to Top